जरूरत है दहेज विरोधी राष्ट्रीय अभियान की

Need of anti-dashing national campaign

आलोक कौशिक, अररिया जिला अन्तर्गत पलासी थाना क्षेत्र के रामनगर पंचायत के हटगांव में मंगलवार को दहेज लोभी पति ने अपने पत्नी को पहले बुरी तरह से पीटा, इसके बाद गले में रस्सी का फंदा लगाकर उसकी हत्या कर दी। घटना के बाद पति और ससुराल वाले घर छोड़कर फरार हो गए। किसी ने इसकी सूचना पलासी पुलिस को दी। मौके पर पहुंची पुलिस ने शव को कब्जे में लेकर पोस्टमार्टम के लिए अररिया भेज दिया। पुलिस के समक्ष पीड़ित पिता ने बेटी की हत्या करने का आरोप लगाया है।…

Read More

अररिया की ना ही तकदीर बदली और ना ही संवरी

आलोक कौशिक, अररिया 1990 में जिला बना। लेकिन लोकसभा का राजनीतिक पिच यहां 1967 में ही तैयार हो गया था। इन 52 सालों में अररिया लोकसभा क्षेत्र की तस्वीर भी बदली और तासीर भी बदला। आरक्षित सीट सामान्य हो गई। पूरा जिला एक संसदीय क्षेत्र में समा गया। कांग्रेस, जनता पार्टी, जनता दल, भाजपा, राजद सबने इस पर राज किया। इन सबके बीच दुर्भाग्य यह कि अररिया की ना ही तकदीर बदली और ना ही संवरी। आज अररिया देश के 115 सबसे पिछड़े जिलों में शुमार होकर अपने राजनीतिक रहनुमाओं…

Read More

अररिया में मानवता शर्मसार

आलोक कौशिक, अररिया में नाबालिग लड़की का सिर मुंडवाकर बिना कपड़ों के घुमाने पर राष्ट्रीय मानवाधिकार आयोग ने खुद संज्ञान लेकर बिहार सरकार और राज्य के डीजीपी को नोटिस जारी कर इस घटना की पूरी जानकारी मांगी है।गौरतलब है कि अररिया जिले के जोकीहाट थाना क्षेत्र में एक बात का बदला लेने के लिए एक नाबालिग लड़की का सिर मुंडाया गया, उसके बाद उसे निर्वस्त्र कर दिया गया। पुलिस मुख्यालय ने सभी आरोपियों पर तत्काल गिरफ्तार कर कड़ी कार्रवाई करने का निर्देश दिया था। इस मामले में छह लोगों को…

Read More

अररिया बिहार का मौजूदा राजनीतिक अनुसंधान केन्द्र

आलोक कौशिक, राजनीति का अनुसंधान केन्द्र बिहार को कहा जाता है। जब भी राजनीति में बड़े बदलाव की पटकथा लिखी गई, उसमें बिहार का बड़ा योगदान था। यह आज़ादी से पहले और आज़ादी के बाद भी समान रूप से चलता रहा। जेपी आंदोलन हो या आपातकाल, बिहार की सहभागिता हमेशा देश के अन्य राज्यों के मुकाबले ज्यादा ही रही। बिहार की वर्तमान राजनीति में भी बड़े बदलाव के तो नहीं लेकिन उलटफेर के संकेत दिख रहे हैं। राजनीतिक गलियों में जारी इस उठापटक से राजनीतिक पंडित और जानकर भी इंंकार…

Read More