पिंटू जी के भाभी हेमंत सोरेन के जड़ खोद रही है

विशेष प्रतिनिधि द्वारा
रांची : ऐसे हमारे मध्यवर्गीय परिवार में कोई व्यक्ति सत्ता के करीब पहुंच जाता है तो वह समझने लगता है कि पूरी राज्य की सत्ता मुट्ठी में आ गई है! क्योंकि उस समय उसका अहंकार पूरे शरीर में उबलने लगता है और वह व्यक्ति अहंकार के मद में सारी सीमाएं लांधने के लिए आतुर रहता है! वह व्यक्ति सिर्फ और सिर्फ सत्ता के मदहोश में रहना चाहता है और यही है झारखंड के मुख्यमंत्री के प्रेस सलाहकार अभिषेक कुमार (पिंटु) जी की भाभी सूचना एवं जन सम्पर्क झारखंड सरकार के उप निदेशक श्रीमती शालिनी वर्मा है! जो कि अपने आपको महारानी विक्टोरिया समझ रही है ऐसे अपनी सेवा की अवधि में श्रीमती वर्मा को तिकड़मी अधिकारी के रूप में तगमा मिल चुका है और सत्ता के करीब होने के कारण 2 वर्ष के अंतराल में ही दुमका उपनिदेशक से स्थानांतरण कराकर मुख्यालय सूचना भवन में पहुंच गई ,जबकि कई ओर उपनिदेशक बरसों से प्रमंडल तथा जिला कार्यालय में कार्यरत है!इसके अलावे ऐसे कई महिला आईएएस ,आईपीएस अधिकारी जिला, प्रमंडल में खुशी-खुशी काम कर रही है और झारखंड सरकार के विकास के कार्यों को आगे बढ़ा रहे हैं वहीं विक्टोरिया रानी श्री शालिनी वर्मा प्रमंडल में रहना अपने आपको तोहीन समझती है !

पिछले रघुवर काल के प्रेस सलाहकार श्री अजय कुमार के बारे में सर्व विदित है कि वे भाजपा के वरिष्ठ नेताओं ,कार्यकर्ताओं तथा अधिकारियों पर शहंशाह की तरह पेश आते थे! शहंशाह श्री कुमार के भगना ( बहन का बेटा )की सगाई के आयोजन के बारे में लोगों का कहना है कि सगाई के रस्म में अधिकारी भारी-भरकम उपहार के साथ पहुंचे थे यानी करीब 80% कुमार के अतिथि 10 से 20 तोला सोने का सामान उपहार के रूप में दे रहे थे! इस आयोजन में अधिकारी, भाजपा नेताओं की अच्छी उपहार देने का होड़ मचा हुआ था! जब कि हमने श्री कुमार को देखा है कि प्रेस सलाहकार के पहले एक सेकंड हैंड मोटरसाइकिल पर चल कर नेताओं का दलाली करता था ,जबकि कुमार ने पूरे परिवार को पैसे से भर दिया है !वही आज श्री अजय कुमार काले कारनामों के मुकदमे से कचहरी के चक्कर लगा रहे और अभी हालत यह भी है कि श्रीकुमार को किसी भी समय गिरफ्तारी हो सकती है
पिछले एक वर्ष में सूचना एवं जन सम्पर्क विभाग झारखंड  सरकार के निदेशक श्री राजीव लोचन बक्शी ने शालिनी वर्मा को विज्ञापन के फाइल छूने का मौका नहीं दिया था ! जिसके कारण शालिनी वर्मा बिना काम का पूरा दिन – पूरा साल ऐसे ही समय बता दिया है श्री बक्शी के स्थानांतरण के होने तुरंत बाद शालिनी वर्मा ने विज्ञापन का फाइल लेकर अपना मनमानी और अहंकारी में चमड़ा का सिक्का चलना शुरू कर दिया! जिस विज्ञापन सूची में समाचार पत्रों की मान्यता की स्वीकृति श्री हेमंत सोरेन ने दिया है ! उसी सूची को श्री शालिनी वर्मा मानने से इंकार कर रही है अपने भोले -भाले सचिव श्री अरुण एक्का को गलत -सलत सलाह देकर मनमाने ढंग से काम कर रही है
ऐसे पिछले 2 महीने पहले सूचना एवं जनसंपर्क विभाग के पूर्व प्रभारी निदेशक श्री अवधेश पांडे सेवानिवृत्त के लिए अपने विभाग में आ गए थे!जिन्हें अंतिम समय में कोई महत्वपूर्ण पद नहीं दिया गया!  ऐसे श्री पांडे के प्रभारी निदेशक काल में कई काले कारनामों के फाइल झारखण्ड भ्रष्टाचार ब्यूरो के पास है औरलोगों का कहना है कि श्री पांडे, शालिनी वर्मा, दलाल तथा भ्रष्टाचारियों ने मिलकर श्री बक्शी को निदेशक पद से हटाने का मुहिम चलाया थाऔर एकाएक श्री बख्शी को निदेशक पद से मुक्त कर दिया गया

श्री राजीव लोचन बक्शी के संबंध में लोगों का कहना है कि एक युवा ईमानदार तथा मिलनसार पदाधिकारी थे जिन्होंने पीआरडी के करोड़ों रुपए के खर्चा पर रोक लगाया! जिसके कारण दलाल , भ्रष्टाचारी तथा अंहकारी श्री बक्शी के खिलाफ में गोलबंद होकर निदेशक पद से हटाने का मुहिम चला दिया था I क्योंकि करोड़ों रुपए के विज्ञापन के रकम पर इन समूह का आँख गड़ा हुआ था, जिसको श्री बख्शी ने पूरी तरह से लगाम लगाए हुए थे! श्री बख्शी सारे काम न्याय संगत करते रहते थे! साथ ही साथ प्रत्येक समाचार पत्रों तथा अन्य मीडियाकर्मियों से अच्छे संबंध बनाए हुए रखे थे! श्री बक्शी का निदेशक पद से हटने के बाद पिंटू जी के भाभी विक्टोरिया रानी शालनी वर्मा का चमड़े का सिक्का चलना शुरू कर दिया I आनन-फानन में सजावटी विज्ञापन उर्दू ,बांग्ला ,अंग्रेजी तथा साप्ताहिक समाचार पत्र को विज्ञापन बंद किया! जबकि हेमंत सोरेन और महागठबंधन का कोर वोटर आदिवासी तथा मुसलमान है और शालनी वर्मा हेमंत सरकार की जड़ खोदने के लिए मुसलमानों और आदिवासियों को अलग करने का काम शुरू कर दिया है! जहाँ एक ओर हेमंत सोरेन का कट्टर विरोधी नरेंद्र मोदी का फोटो शौचालय तक पहुंचा हुआ ,वहीं दूसरी ओर हेमंत सोरेन के अपने अच्छे कार्यों का प्रचार सोरेन के वोटर आदिवासियों तथा मुसलमानों के पास नहीं पहुंच रहा है

Jharkhand CM Hemant Soren using twitter as grievance redressal tool ।  झारखंड: 'ट्विटर' पर शिकायतें को निपटा रहे हैं सीएम हेमंत सोरेन, लोग बता रहे  हैं अपनी समस्याएं - India TV ...

वैसे इस समय हेमंत सरकार के बारे में लोगों का कहना है कि जिस तरह हेमंत सोरेन अपनी कार्य दक्षता, कार्यकुशलता, ईमानदारी तथा साफ़गोई के कारण अपने महागठबंधन तथा विपक्षी दलों के नेताओं का करीब-करीब मुंह बंद कर दिया! विपक्षी दलों के नेता सिर्फ अपनी बयानबाजी कर खानापूर्ति कर रहें है और अब प्रबुद्ध लोगों का कहना है कि अगर हेमंत सोरेन की कार्यशैली इसी तरह तो बगल के राज्य उड़ीसा के मुख्यमंत्री नवीन पटनायक के तरह 20 वर्षों तक राज कर सकते हैं!
ऐसे भी हेमंत सरकार की उपलब्धियां की एक लंबी लिस्ट है और उसी को अगर बताने लगे तो पूरा का पूरा दसों पेज भर जाएगा! इस समय हेमंत सरकार को महारानी विक्टोरिया ऐसे अधिकारी से बच कर रहना चाहिए !

Related posts

Leave a Comment