मोकामा स्टेशन पर साइबर क्राइम अपराधी की हत्या की नियत से जमकर गोलीबारी

क्राइम संवाददाता द्वारा
पटना-किऊल रेलखंड के मोकामा स्टेशन पर अपराधियों ने गुरुवार की रात उपासना एक्सप्रेस के दिव्यांग बोगी में एक साइबर क्राइम अपराधी की हत्या की नियत से जमकर गोलीबारी की। बेऊर जेल से साइबर क्राइम के आरोपी युवक को इसी ट्रेन से सियालदह ले जाया जा रहा था। घटना में ट्रेन के एक गार्ड को पीठ के दाहिने हिस्से में गोली लगी है। हालांकि वे खतरे से बाहर बताए जा रहे हैं।
जानकारी के मुताबिक राजस्थान जयपुर के नौसा के रहने वाले संजीव शर्मा के पुत्र कुणाल शर्मा को गुरुवार की शाम पुलिस सियालदह ले जा रही थी। कुणाल शर्मा पर साइबर क्राइम का आरोप और वह पिछले कुछ दिनों से बेउर जेल में बंद था। कुणाल को पटना एयरपोर्ट से गिरफ्तार किया गया था। कुणाल का कहना है कि बेउर जेल में ही रंगदारी को लेकर एक कैदी सुबोध सिंह से उनका विवाद हो गया था। सुबोध सिंह ने उनकी हत्या की भी धमकी दी थी। संभावना है कि उसी के द्वारा मेरी हत्या कराने के इरादे से गोलियां चलाई गई।
पुलिस के मुताबिक अपराधियों ने तकरीबन आधा दर्जन राउंड फा/यरिंग की। हालांकि बोगी की खिड़कियां कम खुली होने की वजह से एक भी गो/ली निशाने पर नहीं लगी। हालांकि एक गो/ली छिटक कर झाझा में रेलवे गार्ड के तौर पर तैनात नवल किशोर की पीठ के हिस्से में लगी। नवल किशोर इसी ट्रेन से ड्यूटी करने जा रहे थे। कुणाल को सियालदह ले जा रहे पुलिस अधिकारी ने बताया कि गो/लीबारी करने वाले अपराधियों की संख्या 4 से 5 के करीब थी। जब तक वे लोग सतर्क हुए, तब तक सभी अपराधी भागने में सफल रहे।
उन्होंने बताया कि साइबर क्राइम के आरोपित युवक कुणाल शर्मा को उपस्थिति के लिए सियालदह ले जाया जा रहा था। मोकामा से ट्रेन के खुलने की जैसे ही सूचना हुई कि बदमाशों ने गो/लीबारी शुरू कर दी। घटना के बाद ट्रेन को किऊल स्टेशन पर रोका गया। जहां गार्ड का प्राथमिक उपचार हुआ और पुलिस ने पूरे मामले की जानकारी हासिल की।
कुणाल शर्मा ने बताया कि उनके पिता भाजपा के पूर्व विधायक संजीव शर्मा हैं। उनकी मां भी भाजपा में ही महिला मोर्चा के एक पद पर कार्यरत हैं। हालांकि युवक को छोड़ कहीं से इसकी पुष्टि नहीं हुई है।

Related posts

Leave a Comment