राजद के थाली बजाने से भाजपा का नींद हराम !

पटना से राजनीतिक सम्बादाता

बिहार में इस साल के अंत तक विधानसभा चुनाव को लेकर    दोनों दल  राजद और भाजपा आमने-सामने हो गई है इसी को लेकर आज 10:30 बजे राजद ने  गरीबों की मौत का जश्न के खिलाफ में  थाली बजाए !

अमित शाह की रैली से पहले राष्ट्रीय जनता दल के नेता तेजस्वी यादव ने निशाना साधा है। तेजस्वी यादव ने अमित शाह के वर्चुअल रैली को ढोंग बताते हुए कहा कि एक्चुअल सच्चाई को छिपाने के लिए बीजेपी वर्चुअल रैली का नाटक कर रही है

अमित शाह की वर्चुअल रैली के खिलाफ RJD ने थाली पीटकर उसका विरोध किया। पूर्व मुख्यमंत्री राबड़ी देवी, राजद नेता तेजस्वी यादव, तेज प्रताप यादव ने राजद कार्यकर्ताओं केो साथ मिलकर थाली बजाई और बीजेपी की इस रैली का विरोध किया। पूर्व सीएम राबड़ी देवी ने पटना स्थित अपने आवास 10 सर्कुलर रोड पर थाली पीटकर इसकी शुरूआत की, जिजसके बाद कार्यकर्ताओं ने थाली बजाकर उनका साथ दिया। इस दौरान उनके दोनों बेटे तेजस्वी और तेज प्रताप उनके साथ मौजूद थे।    पटना में 10 सर्कुलर रोड स्थित राबड़ी देवी के आवास के बाहर रविवार सुबह राजद नेताओं ने थाली बजाकर भाजपा की वर्चुअल रैली का विरोध किया। इसकी तैयारी सुबह से ही चल रही थी। सोशल डिस्टेंसिंग के लिए घर के बाहर सफेद रंग से गोल घेरा बनाया गया था। 10:30 बजे के बाद नेता थाली लेकर राबड़ी आवास के बाहर जुटने लगे।

पटना में अमित शाह की वर्चुअल रैली के विरोध में थाली बजाते तेजस्वी यादव।

राबड़ी देवी ने एक हाथ में थाली और दूसरे हाथ में चम्मच पकड़ रखा था। उनके छोटे बेटे तेजस्वी यादव भी चम्मच और थाली लेकर गोल घेरे में खड़े हुए। तेजप्रताप थाली बजाने के लिए छोटी छड़ी लेकर खड़े थे। जैसे ही 11 बजे राजद नेताओं ने थाली पीटना शुरू कर दिया। 10 मिनट तक थाली पीटने का कार्यक्रम चला।

तेजस्वी यादव ने कहा कि गरीब भूखे मर रहे हैं। दूसरी ओर भाजपा और जदयू जश्न मना रही है। बिहार में डबल इंजन की सरकार ने गरीबों को प्रताड़ित किया है। लॉकडाउन के चलते दूसरे राज्यों से लौट रहे गरीब मजदूरों के साथ दूसरे दर्जे के नागरिक जैसा बर्ताव किया गया। बड़ी संख्या में लोग बेरोजगार हो गए हैं। देशभर में लगभग 12 करोड़ लोग बेरोजगार हुए हैं। कोरोना काल में 13 करोड़ लोग बीपीएल में जुड़े हैं।

राजद नेता ने नीतीश सरकार और केंद्र सरकार ने कई सवाल भी किए। उन्होंने अपने सवालों के साथ बैनर जारी किया और कहा कि हम सरकार से मजदूरों, किसानों के हक की बात करेंगे और उनसे जवाब मांगेंगे। तेजस्वी ने लोजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान पर भी कटाक्ष किया और कहा कि उनकी स्थिति बीजेपी में लालकृष्ण आडवाणी जैसी हो गई है। उन्हें कोई पूछता नहीं है।

इस हुँकार से लगता है कि  बिहार विधानसभा चुनाव में राजद पूरी तरह से कमर कस लिया है और एनडीए को भारी शिकस्त  देने के लिए  मैदान में आ गया है !
दूसरी और बिहार में सत्तारूढ़ जनता दल यूनाइटेड (जदयू) ने अपने राष्ट्रीय अध्यक्ष और मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की लोक जनशक्ति पार्टी प्रमुख चिराग पासवान द्वारा की गई कड़ी आलोचना पर जोरदार हमला बोला। पार्टी ने चिराग के बयान को दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया। बता दें कि दोनों ही दल एनडीए का हिस्सा हैं।

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

 

Related posts

Leave a Comment